अमूढता Free from Delusion

 

जो हवदि असम्मूढो, चेदा सव्वेसु कम्म-भावेसु।
सो खलु अमूढ-दिट्ठी, सम्मादिट्ठी मुणेदव्वो।।१९।।SSU

 

जो व्यक्ति विमूढ नहीं, चेतन दृष्टि सुभाव।
अमूढ दृष्टि कहते उसे, सम्यक दृष्टि स्वभाव॥२.१८.१९.२३७॥

 

जो समस्त भावो के प्रति विमूढ नही है, जागरुक है वह अमूढदृ्ष्टि सम्यग् है।

 

He who is completely devoid of delusion as to the nature of things is certainly understood to be the non-deluded right-believer. (237)

 

 

कापथे पथिदु:खानां, कापथस्थेऽप्यसम्मति:।
असंपृत्कि रनुत्कीर्तिरमूढा दृष्टिरुच्यते॥१४॥ RKS

 

मिथ्यात्व ही कुमार्ग है, पथ नहीं कल्याण।
सम्यग्दृष्टि यह जानता, अमूढदृष्टि पहचान॥१४॥

 

सम्यग्दृष्टि जीव मिथ्यात्व के मार्ग को कुमार्ग जानता है और उसे कल्याण का मार्ग नहीं समझता व शरीर के अंगों से किसी प्रकार की प्रशंसा नहीं करके अपने अमूढदृष्टि के अंग को दृढ़ रखता है।

 

Non-recognition of wrong path and not giving any kind of approval to those who are on wrong path is amudhdrashti anga.

 

आपगासागरस्नानमुच्चय: सिकताश्मनाम्।
गिरिपातोऽग्निपातश्च लोकमूढं निगद्यते॥२२॥RKS

 

नहा समुद्र या गंगा, पूजे पत्थर ढेर।
अग्नि प्रवेश, पर्वत गिरे, लोकमूढता फेर॥२२॥

 

धर्म बुद्धि से गंगादि नदियों और समुद्रों में स्नान करना, बालु और पत्थरों का ऊँचा ढेर लगाना, पर्वत से गिरना, अग्नि में प्रवेश करना आदि लोकमूढता कहा जाता है।

 

Bathing in Ganga or oceans, setting up heaps of sand and stones for worship, jumping from mountain or into the fire is Lokmudhata.

 

वरोऽपलिप्सयाऽऽशावान् रागद्वेषमलीमसा:।
देवता यदुपासीत देवतामूढमुच्यते॥२३॥RKS

 

आशा तृष्णा के वश में, कुगुरू जिसमें राग।
ऐसे देव का पूजना, देवमूढता आग॥२३॥

 

आशा तृष्णा के वशीभूत होकर वर पाने की इच्छा से राग द्वेष से मलिन देवताओं की उपासना देवमूढता है।

 

Worshipping with desires to obtain favour of deities whose mind is full of personal likes and dislikes is called the Devmudhata.

 

सग्रन्थाऽऽरम्भहिंसानां संसारावर्तवर्तिनाम्।
पाषण्डिनां पुरस्कारो ज्ञेयं पाषण्डिमोहनम्॥२४॥RKS

 

आदर करता पाखंडी, हिंसा युक्त संसार।
परिग्रह आरंभ में फँसा, पाखंडमूढ विचार॥२४॥

 

परिग्रह, आरंभ और हिंसा से युक्त संसार के गोरखधंधे रुप भँवरों के मध्य पड़े हुए पाखंडी लोगों का आदर करना पाखंडिमूढता है।

 

Worshipping false ascetics who continue to have possession, beginning and violences is called Gurumudhata.