अतिथिसंविभाग व्रत का अर्थ Meaning of Sharing With Guest Vow

 

दानं वैयावृत्यं धर्माय तपोधनाय गुणनिधये।
अनपेक्षितोपचारोपक्रियमगृहाय विभवेन॥१११॥RKS

 

वैयावृत्य शिक्षाव्रत है, धर्म वृद्धि के लिए दान।
तपस्वी व गुणी संत को, विधिपूर्वक सम्मान॥५.२१.१११॥

 

तपस्वी, गुणधारी संतो के लिए विधिपूर्वक बिना किसी अपेक्षा के धर्म की वृद्धि के लिये दान देना वैयावृत्य नाम का शिक्षाव्रत कहा जाता हैं।

 

Doing charity to wise saints with proper system and for increasing dharma is called vaiyavrat shikshavrat.