सच्चे शास्त्र True Scriptures

 

आप्तोपज्ञमनुल्लड्ध्य, मदृष्टेष्टविरोधकं।
तत्त्वोपदेशकृत्सार्वं, शास्त्रं कापथघट्टनं॥९॥ RKS

 

शास्त्र वह जो आप्त कहे, तत्त्व का हो ज्ञान।
विरोध ना, हितकर रहे, मिथ्या खंडन जान॥९॥

 

तीर्थंकर भगवान द्वारा कहा गया उल्लंघनरहित, विरोधरहित, तत्त्व का उपदेश करने वाला, सबका हितकारी और मिथ्या मार्ग का खण्डन करने वाले को शास्त्र कहते है।

 

True scripture is word of Tirthankara, which can’t be over ridden, nor can be opposed, which reveals the true nature of substances, which is beneficial to all and destroys the wrong faith.