अचौर्य  Non – Stealing

 

 

अचौर्यव्रत की भावनाएँ Contemplation of non-stealing vow

अचौर्याणुव्रत के अतिचार Violation of non-stealing vow

 

अदत्तादानं स्तेयम्॥१५॥TS

 

है क्या चोरी करना, तू ले अब यह जान।
योग और प्रमाद से, ग्रहण वस्तु अंजान॥७.१५.२५१॥

 

प्रमाद द्वार मन वचन व काया से बिना दी हुई वस्तु को ग्रहण करना चोरी है।

 

Taking anything with carelessness of thoughts, words and actions is called stealing.

 

वज्जिज्जा तेनाहड-तक्करजोगं विरुद्धरज्जं च।
कूडतुल-कूडमाणं, तप्पडिरूवं च ववहारं।।१३।।SSu

 

साथ ना चोरी, करे, गैर राजआचार।
कूट तोल, खोटा नही, जाली ना व्यवहार॥२.२३.१३.३१३॥

 

 

अचौर्य अणुव्रती चोरी का माल ख़रीदे और ही प्रेरक बने। टैक्स आदि की चोरी करे और मिलावट करे। जाली करेंसी चलाये।

 

One should desist from: buying stolen property, inciting another to commit theft, avoiding the rules of government, use of false weights and measures adulteration and preparation to counterfeit coins and notes. (313)