सल्लेखना Passionless Death

 

संलेखना के प्रकार Types of passionless death

संलेखना के अतिचार Violations of passionless death

 

चरे पयाइं परिसंकमाणो, जं किंचि पासं इह मण्णमाणो।
लाभन्तरे जीविय वूहइता, पच्छा परिन्न्य मलावधंसी।।६।।SSu

 

पग पग संभव दोष रहे साधक रखता ध्यान।
देह लाभ जब नहीं मिले त्याग करे संज्ञान॥२.३३.६.५७२॥

 

साधक पग पग पर दोषों की संभावनाओं को ध्यान मे रख कर चले। छोटे से छोटे दोषों को भी बंधन समझ कर सावधान रहे। नये नये लाभ के लिये जीवन को सुरक्षित रखे। जब देह से लाभ होता दिखाई दे तो ज्ञानपूर्वक शरीर का त्याग कर दे।

 

One ought to undertake every activity with the fear of bondage (i.e., possibilities of bondage) one ought to prolong one’s life in the hope of acquiring ever new gains in the future and at the end, one ought to destroy one’s defilements with prudence. (572)