ब्रह्मचर्यव्रत Celibacy Vow

 

ब्रह्मचर्यव्रत की भावनाएँ Contemplation of Celibacy

ब्रह्मचर्याणुव्रत के अतिचार Violation of Celibacy

 

मैथुनमब्रह्म॥१६॥TS

 

ब्रह्मचर्य का अर्थ क्या, तू ले अब यह जान।
योग और प्रमाद से, मैथुन अब्रह्म मान॥७.१६.२५२॥

 

प्रमाद द्वार मन वचन व काया से मैथुन सेवन करना कुशील (अब्रह्म) है।

 

Sexual indulgence with carelessness of thoughts, words and actions constitutes absence of chastity.

 

इत्तरिय-परिग्गहिया-परिगहियागमण णंगकीडं च।
परविवाहक्करणं कामे, तिव्वाभिलासं च।।१४।।SSu

 

परनारी  से दूर रहे, कामवासना त्याग।

अरु विवाह में रुचि नहीं, नहीं काम से  राग॥२.२३.१४.३१४॥

 

ब्रह्मचर्य अणुव्रती को परायी स्त्रियों से सदा दूर रहना चाहिये। अनंग क्रीड़ा नही करनी चाहिये। अपनी संतान के अतिरिक्त दूसरों के विवाह कराने मे रुचि नही लेनी चाहिये। काम की तीव्र लालसा का त्याग करना चाहिये। 

 

A sravak-who has taken the partial vow of chastity should remain satisfied with his wife and keep himself completely away (aloof/indifferent/unconcerned) from other unmarried and married women. He should not indulge in unnatural sexual intercourse (Anaiya krida). (Further) he should not take interest in the marriages of persons, other than his own offsprings. He must renounce intense lust for sex. (314)