सत्यव्रत Vow About Truthfulness

 

सत्यव्रत की भावनाएँ Contemplation of vow about truth

सत्याणुव्रत के अतिचार Violation of vow of truthfulness

असत्य के भेद Falsehood types

 

 

असदभिधानमनृतम्॥१४॥TS

 

होता क्या असत्य बोलना, तू ले अब यह जान।
योग और प्रमाद से, करता झूठ बखान॥ ७.१४.२५०॥

 

प्रमाद द्वार मन वचन व काया से असत्य बोलना झूठ है।

 

Speaking lie with carelessness of thoughts, words and actions is called falsehood.

 

थूल-मुसावायस्स उ विरई, दुच्चं स पंचहा होइ।
क्न्न्-गो-भु-आलिय-नासहरण, कूडसक्खिज्जे।।११।।SSu

 

 

दूजा व्रत असत्य विरति, पंचम इसकी राह।
कन्या, गौ, भू झूठ नहीं, क़ब्ज़ा, असत गवाह॥२.२३.११.३११॥

 

 

असत्य से विरक्ति दूसरा अणुव्रत है। इसके भी पाँच भेद है। कन्या, पशु तथा भूमि के लिये झूठ बोलना, किसी की धरोहर को दबा लेना और झूठी गवाही देना। इनका त्याग स्थूल असत्य विरति है।

 

Refraining from major type of falsehood is the second vow; this major type of falsehood is of five kinds; speaking untruth about unmarried girls, animals and land, repudiating debts or pledges and giving false evidence. (311)